गुरुवार, 23 फ़रवरी 2012

दिलका दौरा 3

खैर! उस रात बहन मेरे साथ रुक गयी. दूसरे दिन सुबह्से फिर एकबार टेस्ट शुरू हो गए. जैसे,जैसे टेस्ट होते जा रहे थे,मुझे doctors के  चेहरे गंभीर होते नज़र आ रहे थे. फिर बहन तथा बेटेसे बताया गया की अब तुरंत ICU  में शिफ्ट करना है. OT  तैयार रखा  जाये.अब मेरे पति जो शहर में नहीं थे,उन्हें तुरंत बुला लिया गया!

क्रमश:( इसके लिए माफी चाहती हूँ!)

Angiography  की तैय्यारी कर ली गयी. पति के पहुँचने का किसी ने इंतेज़ार नहीं किया. खैर! मैंने अपनी मानसिक तैय्यारी कर ली . जो होना है होगा! मुझे OT  में ले गए! Angiography होती रही. स्क्रीन पे देख देख के doctors आपस में बतियाते रहे.यहाँ clot  है,वहाँ clot  है....मुझे सुनायी दे रहा था. Procedure पूरा हो गया. फिलहाल doctors  को किसी बड़े ऑपरेशन की ज़रुरत नहीं महसूस हुई. हाँ! ये ज़रूर बताया गया की,ये पहला दौरा नहीं था!
मै वापस ICU  में आ गयी. ICU  में रहते दो बार ऐसा हुआ की मुझे किसी कारण monitors  परसे हटाया गया और वापस connect  करनेका किसी को होश नहीं!

अब वेंस न मिलना आदि आदि का सिलसिला शुरू हो गया! दूसरे दिन मै नॉरमल रूम में पहुँच गयी. लेकिन लगातार मोनिटरिंग जारी थी. मेरी डॉक्टर तो वाकई एक फ़रिश्ता थी. लेकिन जितनी नर्म कोमल उतनीही सख्त भी. मैंने बरसों ली हुई  migraine  की दवाइयों के बदौलत ये दौरा पड़ा था. बड़ी निर्ममतासे मेरी सारी दवाईयाँ बंद कर दी गयीं. आज १२ दिन हो रहे हैं मुझे सोये हुए!!

घर आके भी नींद नदारत है!


29 टिप्‍पणियां:

रचना दीक्षित ने कहा…

जल्द आप पूर्ण स्वस्थ होकर घर पहुंचे. हम सब की शुभकामनायें आपके साथ हैं.

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

आप घर आ गई है...अब सब ठीक ही होता जाएगा!...आप को अब आराम की जरुरत है!

Roshi ने कहा…

may god bless u ......get well soon

मुकेश कुमार तिवारी ने कहा…

आप घर सकुशल आ गई हैं धीरे धीरे पूर्ण स्वस्थ्य हो जाएंगी|

और फिरौसी मुस्तैदी से जुट जाएंगी अपनी दुनिया में, इन्हीं शुभकामनाओं के साथ,

यदि इस बीच पूना आना हुआ तो जरूर मिलूंगा यदि और कभी आया तो भी।

सादर,

मुकेश कुमार तिवारी

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

aap aaram keejiye
aur
sone ki koshish keejiye ,neend bahut zaroori hai
inshaAllah jald hi theek ho jaengi

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

नींद बहुत ज़रूरी है दीदी. यहां-वहां की बातें न सोचें.

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

शुभकामनायें आपको ...शीघ्र स्वस्थ हों

चैतन्य शर्मा ने कहा…

गेट वेल सून .... सादर शुभकामनायें

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

नींद न आना और लगातार दवाएं लेना खास कर दर्द निवारक दवाएं.. मैंने बहुत दुष्प्रभाव देखे हैं इसके.. परमात्मा आपको सेहतमंद करे!!

सदा ने कहा…

आप जल्‍दी स्‍वस्‍थ्‍य हों यही शुभकामनाएं आपके लिए

संजय भास्कर ने कहा…

क्षमा जी आप जल्दी स्वस्थ हो

वन्दना ने कहा…

घर आ गयी हैं अब आराम करिये और कुछ ना सोचें जल्द ठीक हो जायेंगी।

ASHA BISHT ने कहा…

hamari shubhkamnaayen aapke sath hain...

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

अभी पढा और सारा हाल मालुम हुआ। आप अब ठीक हैं, इसके लिये ईश्वर का धन्यवाद! ध्यान रखिये, शुभकामनायें!

ajit gupta ने कहा…

शुभकामनाएं।

alka sarwat ने कहा…

आदरणीय क्षमा जी ,

आप दोनों समय खाने से १५ मिनट पहले अदरक का २ ३ सेमी लंबा पीस लीजिए और उसे सेंधा नमक में डूबा लीजिए फिर चबा चबा कर खाइए ,यह काम अब सारी जिंदगी कीजिए ताकि दुबारा ह्रदय से सम्बंधित कोई भी परेशानी न हो.

संजय @ मो सम कौन ? ने कहा…

take care, ma'm.

संजय @ मो सम कौन ? ने कहा…

take care, ma'm.

vidya ने कहा…

क्षमा चाहती हूँ...आज ही पढ़ पायी ये पोस्ट...

ईश्वर से प्रार्थना है कि आप जल्दी स्वस्थ हों...
अपना ख़याल रखें...
प्रसन्न रहें...
चिंता मुक्त रहें...
लिखती रहें...

ढेरों शुभकामनाएँ.....
सादर.

अख़तर क़िदवाई ने कहा…

aap punh purtah theek ho jaaye,ye hi manokaamna hai.

avanti singh ने कहा…

आप बहुत ही जल्दी ठीक हो जाएँ ऐसी मंगलकामना है ,आप को जो हस्त मुद्रा (संजीवनी मुद्रा) के बारे में बताया उसे रोजाना ४०मिनट तक कीजिये, कभी भी छोडिये मत जीवन का अंग बना लीजिये,और उसी में एक अपान मुद्रा होती है उसे भी ४० मिनट कीजिये,और थोडा मेडिटेशन सीखिए नींद के लिए ,इस से सरल और कुछ भी नहीं है .

मनोज कुमार ने कहा…

ओह!
हम ईश्वर से दुआ करते हैं कि आप शीघ्रातिशीघ्र स्वस्थ हों औए सुख-चैन की सांस लें।

शालिनी कौशिक ने कहा…

शीघ्रातिशीघ्र आप पूर्ण स्वस्थ होकर घर पहुंचे.
हम ईश्वर से दुआ करते हैं कि आप शीघ्रातिशीघ्र स्वस्थ हों औए सुख-चैन की सांस लें
हम सब की शुभकामनायें आपके साथ हैं.

Rakesh Kumar ने कहा…

ओह! आप घर आ गयीं यह तो बहुत खुशी की बात है.नींद की चिन्ता न कीजियेगा.जब आती है तो खुद ही चली आती है.बुलाने से नखरे दिखाती है.

लक्ष्मण जी ने १४ वर्ष तक जागकर,राम जी की सेवा की थी.अर्जुन को 'गुडाकेश' इसलिए कहा गया कि उसने निद्रा पर विजय प्राप्त की हुई थी.

मुझे भी कभी नींद न आने की समस्या का काफी समय तक सामना करना पडा था.पर जप,सार्थक चिंतन और परमात्मा के समक्ष समर्पण और ध्यान से नींद कभी भी आराम से आ जाती है.

Basanta ने कहा…

It was a relief to know that you are getting well. I unable to be here for quite a long long time, and was very sad to know about your condition.
My best wishes and prayers for your speedy recovery.

मिश्री की डली ज़िंदगी हो चली ने कहा…

get well soon & take care

mark rai ने कहा…

हम सब की शुभकामनायें आपके साथ हैं.....................

sangita ने कहा…

get well soon

ज्योति सिंह ने कहा…

vandana ne sahi kaha ,neend hona jaroori hai .